Chudail ki kahani and bhoot ki new kahani, पुल के पास की चुड़ैल भूत की कहानी

Chudail ki kahani and bhoot ki new kahani

Chudail ki kahani, पुल के पास की चुड़ैल भूत की कहानी, वह चुड़ैल पुल के पास रहती थी कोई भी इस बात को नहीं जानता था कि वह चुड़ैल पुल के पास है but एक आदमी रात के समय उस पुल से गुजर रहा था वह पुल गांव के दूसरे किनारे पर पड़ता था वह उस पुल को पार करने वाला था कि उसे अचानक कोई आवाज आई है

Chudail ki kahani and bhoot ki new kahani : पुल के पास की चुड़ैल भूत की कहानी 

Chudail ki kahani

Chudail ki kahani

Chudail ki kahani, उस आवाज को सुनकर डर गया because वह किसी के रोने की आवाज आ रही थी ऐसा लग रहा था कि कोई पुल के नीचे बैठ कर रो रहा है वह आदमी सोच रहा था कि रात के समय में पुल के नीचे कौन रो रहा है मुझे चल कर देखना चाहिए जैसे ही पुल के नीचे उतरा तो वहां पर कोई भी नहीं था अब उसे वह आवाज पुल के ऊपर से आ रही थी वह आदमी सोच रहा था कि कहीं यह bhoot तो नहीं है जो कि कभी पुल के ऊपर बैठ जाता है और कभी पुल के नीचे चला जाता है, Chudail ki kahani

 

वह इस बात को समझ नहीं पा रहा था कि आवाज किसकी है जैसे ही पुल के ऊपर गया तो आवाज पुल के नीचे से आने लगी वह बहुत परेशान हो गया था because वह समझ नहीं पा रहा था कि यह कौन कर रहा है और यह आवाज किसकी है वह उस जगह से निकलने वाला था कि आवाज फिर से बहुत तेज हो गई थी जिसकी वजह से वह रुक गया था इस बार फिर से वह पुल के नीचे जाता है और उस भूत को देखने की कोशिश करता है जिसकी आवाज आ रही है

 

वह देखता है कि है कोई bhoot नहीं बल्कि यहां पर बैठकर वह Chudail  रो रही है अब वह वहां पर नहीं रुक सकता था उसे बहुत ज्यादा डर लग रहा था वह भागने की कोशिश कर रहा था but भाग नहीं पा रहा था वह बहुत अधिक डर चुका है because वह Chudail  से कहीं भी जाने नहीं दे रही थी वह आदमी कुछ नहीं कर सकता था और वहीं पर ही रुक गया था but उसे लगातार देख रहा था उसका डर उसके मन में बहुत अधिक बैठ गया था वह वहां से जाना चाहता था

 

but वह आगे बढ़ने पर वह चुड़ैल उसकी और धीरे-धीरे बढ़ रही थी ऐसा लग रहा था कि वह चुड़ैल आज से बिल्कुल भी छोड़ने वाली नहीं है वह आदमी भागने की कोशिश कर रहा था कि तभी अचानक उसके पैरों में गति आ गई और बहुत तेजी से वहां से भाग गया वह आदमी गांव में पहुंच गया था और बता रहा था कि मैंने एक चुड़ैल को पुल के नीचे रोते हुए देखा और मुझे बहुत अधिक डर लग रहा था मुझे ऐसा लगता था कि आज चुड़ैल छोड़ने वाली नहीं है but बहुत मुश्किल से मैं वहां पर से वापस आया

 

सभी लोगों ने कहा कि हमने पहले ऐसा कभी नहीं देखा सभी लोग मिलकर रात के समय ही उस पुल के पास गए but वहां पर कोई नहीं था वह आदमी उन्हें बताना चाहता था वह समझाना भी चाहता था कि उसने यहां पर किसी को देखा but वहां कोई नजर नहीं आ रहा था सभी गांव वाले वापिस जा चुके थे क्योंकि वहां पर कोई नहीं था

 

उन्हें लग रहा था कि शायद इस आदमी को कोई धोखा हुआ है जिसकी वजह से ही चुड़ैल बता रहा है जबकि कोई चुड़ैल नहीं है but वह इस बात को जानता है कि उसने चुड़ैल को देखा था अगर आपको यह पुल के पास की चुड़ैल भूत की कहानी पसंद आए तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें बताएं.

 

पेड़ के पास चुड़ैल की भूत कहानी : Chudail ki kahani and bhoot ki new kahani

bhoot ki new kahani

bhoot ki new kahani

Chudail ki kahani, आज रात बहुत हो गयी है हमे घर जाते हुए बहुत समय लग जाएगा, अगर हम दोनों सही समय से चले होते तो बहुत अच्छा होता, but हमने तो चलते हुए काफी देर लगा दी है, हम बहुत देर से चल रहे है अब हमसे चला नहीं जाता है, वह पेड़ देख रहो हो, हमे वही पर आराम करना चाहिए उसके बाद ही हम आगे बढ़ पाएंगे, वह दोनों उस पेड़ के नीचे आराम करते है, but कुछ देर आबाद किसी की आवाज आती है, वह आवाज किसकी है, because आस पास कोई भी नहीं है, Chudail ki kahani

 

but उस Chudail  की आवाज से वह बहुत अधिक डर गए थे, उन्हें यही लग रहा था की आज यह आवाज बहुत डरावनी लग रही है हमे ऐसा लगता है की कोई पेड़ पर है दोनों पेड़ की और देखते है उन्हें यही लगता है की यह आवाज पेड़ से आयी है वह ऊपर देखते है अब उन्हें लगता है की यह पेड़ ही डरावना लग रहा है ऊपर उन्हें कोई नज़र आता है जबकि इस रास्ते में रात के समय में कौन हो सकता है वह चुड़ैल थी, जो उन्हें देख रही थी, उसके देखने से उनका डर बहुत अधिक था,

Chudail ki kahani and bhoot ki new kahani

वह अब भागना चाहते थे, because वह उस चुड़ैल से बचना चाहते थे, वह चुड़ैल उनके ऊपर उड़ रही थी, वह भाग रहे थे, उनका डर बहुत अधिक हो गया था कुछ दुरी पर जाकर वह गायब हो जाती है, वह अब उन्हें नज़र नहीं आती है, वह अब चुड़ैल को नहीं देख पा रहे थे, मगर उस चुड़ैल का डर उनके मन के अंदर था, but वह अब इस समस्या से दूर थे वह उसे देख चुके थे जोकि अभी तक नहीं देखा था       

Read More ghost stories :-

भूत की कहानी लालच का सोना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *